Zindagi Dard Bhari Shayari | Shayari Dard Bhari Zindagi Hindi

Best 2022 life जिंदगी दर्द भरी शायरी in this post zindagi dard bhari shayari, akelepan zindagi dard bhari shayari, shayari dard bhari zindagi hindi, dard bhari zindagi ki shayari, zindagi me dard bhari shayari, dard bhari shayari on zindagi, dard bhari shayari zindagi par, dard bhari zindagi shayari, shayari dard bhari zindagi, zindagi shayari in hindi, whatsapp zindagi shayari with HD image FREE Download

Shayari Dard Bhari Zindagi Hindi

zindagi dard bhari shayari
zindagi dard bhari shayari

DOWNLOAD SHAYARI PHOTO

 

छोड़ ये बात कि मिले ज़ख़्म कहाँ से मुझको, ज़िन्दगी इतना बता कितना सफर बाकी है

 

जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना, ये कम्बख्त ज़िन्दगी भरोसे के काबिल नहीं है

 

कंधे पर बैग आज भी है बस फर्क इतना है , कि पहले किताबें लेकर घूमता था और आज जिम्मेदारियां लेकर घूमता हूं

 

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से, चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

 

ज़िन्दगी तुझसे हर एक साँस पे समझौता करूँ, शौक़ जीने का है मुझको मगर इतना तो नहीं, रूह को दर्द मिला… दर्द को आँखें न मिली, तुझको महसूस किया है तुझे देखा तो नहीं

 

ऐ ज़िन्दगी इतने भी दर्द न दे कि मैं बिखर जाऊं, ऐ ज़िन्दगी इतने भी ग़म न दे कि ख़ुशी भूल जाऊं, ऐ ज़िन्दगी इतने भी आँसू न दे कि मैं हँसना भूल जाऊं, इतने भी इम्तिहान न ले कि मैं हार के जीना भूल जाऊं

 

आहिस्ता चल ऐ ज़िंदगी कुछ क़र्ज़ चुकाने बाकी हैं, कुछ दर्द मिटाने बाकी हैं कुछ फ़र्ज़ निभाने बाकी हैं

 

वो हर बार अगर चेहरा बदल कर न आया होता, धोखा मैंने उस शख्स से यूँ न खाया होता, रहता अगर याद कर मुझे लौट के आती नहीं, ज़िन्दगी फिर मैंने तुझे यूं न गंवाया होता

 

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से, चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

 

कभी आँखों पे कभी सर पे बिठाए रखना, ज़िंदगी नागवार सही दिल से लगाए रखना

akelepan zindagi dard bhari shayari

zindagi dard bhari shayari
zindagi dard bhari shayari

DOWNLOAD SHAYARI PHOTO

 

जो पढ़ा है उसे जीना ही नहीं है मुमकिन, ज़िंदगी को मैं किताबों से अलग रखता हूँ

 

क्या लिखूं हकीकत-इ-दिल आरज़ू बेहोश है, खत पर आंसू बह रहे हैं कलम खामोश है.

 

एक साँस सबके हिस्से से हर पल घट जाती है कोई जी लेता है जिंदगी किसी की कट जाती है

 

समंदर न सही पर एक नदी तो होनी चाहिए तेरे शहर में ज़िंदगी कहीं तो होनी चाहिए

 

आया ही था खयाल कि आँखें छलक पड़ीं आँसू किसी की याद के कितने करीब हैं

 

इक टूटी सी ज़िंदगी को समेटने की चाहत थी न खबर थी उन टुकड़ों को ही बिखेर बैठेंगे हम

 

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

 

सिर्फ सांसे चलते रहने को ही ज़िन्दगी नही कहते आँखों में कुछ ख़वाब और दिल में उम्मीदे होना जरूरी है

 

फिक्र है सबको खुद को सही साबित करने की जैसे ये ज़िंदगीए ज़िंदगी नही कोई इल्जाम है

 

मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको ऐ ज़िंदगीए मुझे रोज रोज तमाशा न बनाया कर

 

खुशी में भी आँखें आँसू बहाती रही, जरा सी बात देर तक रुलाती रही, कोई खो के मिल गया तो कोई मिल के खो गया, ज़िंदगी हम को बस ऐसे ही आज़माती रही

 

ज़िन्दगी से पूछिये ये क्या चाहती है, बस एक आपकी वफ़ा चाहती है, कितनी मासूम और नादान है ये, खुद बेवफा है और वफ़ा चाहती है

shayari dard bhari zindagi hindi

akelepan zindagi dard bhari shayari
akelepan zindagi dard bhari shayari

DOWNLOAD SHAYARI PHOTO

 

कल न हम होंगे न कोई गिला होगा, सिर्फ सिमटी हुयी यादों का सिलसिला होगा, जो लम्हे हैं चलो हँसकर बिता दें, जाने कल जिंदगी का क्या फैसला होगा

 

जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना, ये कम्बख्त जिंदगी भरोसे के काबिल नहीं है

 

शतरंज खेल रही है मेरी जिंदगी कुछ इस तरह, कभी तेरी मोहब्बत मात देती है कभी मेरी किस्मत

 

मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको, ऐ ज़िन्दगी मुझे रोज़ रोज़ तमाशा न बनाया कर

 

खुशी में भी आँख आँसू बहाती रही, जरा सी बात हमें देर तलक रुलाती रही, कोई खो के मिल गया तो कोई मिल के खो गया, ज़िन्दगी हम को बस ऐसे ही आज़माती रही

दर्द भरी शायरी | Dard Bhari Bewafa Shayari

दर्द भरी बातें | दर्द भरी जिंदगी मशहूर शायरी

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share shayari

SHORT LINKS