Desh Bhakti Shayari in Hindi | Army Desh Bhakti Shayari

desh bhakti shayari, desh bhakti shayari in hindi, army desh bhakti shayari, shayari desh bhakti, 26 january desh bhakti shayari, attitude desh bhakti shayari in hindi, desh bhakti shayari 2022, desh bhakti shayari 2 line, desh bhakti shayari hindi, 15 august desh bhakti shayari, desh bhakti status hindi, desh bhakti shayari in hindi text, desh bhakti quotes in hindi

army desh bhakti shayari

desh bhakti shayari
desh bhakti shayari

गूंजे कहीं पर शंख कहीं पे अजान है
बाइबिल है ग्रन्थ साहब है गीता का ज्ञान है
दुनिया में कहीं और यह मंज़र नसीब नहीं
दिखाओ ज़माने को ये हिंदुस्तान है

26 january desh bhakti shayari
26 january desh bhakti shayari

अधिकार मिलते नहीं लिए जाते हैं
आजाद हैं मगर गुलामी किये जाते हैं
वंदन करो उन सेनानियों को
जो मौत के आँचल में जिए जाते हैं

shayari desh bhakti
shayari desh bhakti

हर वक़्त मेरी आँखों में धरती का स्वपन हो
जब कभी मरू तो तिरंगा मेरा कफ़न हो
और कोई ख्वाहिश नहीं ज़िंदगी में अब
जब कभी जनमु तो भारत मेरा वतन हो

desh bhakti shayari in hindi
desh bhakti shayari in hindi

 

कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है

desh bhakti shayari in hindi
desh bhakti shayari in hindi

जिंदगी है कल्पनाओं की जंग
कुछ तो करो इसके लिए दबंग
जियो शान से भरो उमंग
लहराओ सबसे दिलों में देश के लिए तिरंग

26 january desh bhakti shayari
26 january desh bhakti shayari

 

लहराएगा तिरंगा अब सारे आसमान पर
भारत का नाम होगा सब की जुबान पर
ले लेंगे उसकी जान या दे देंगे अपनी जान
कोई जो उठायेगा आँख हमारे हिंदुस्तान पर

desh bhakti shayari in hindi
desh bhakti shayari in hindi

आज़ादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची हो जो एक बूंद भी गरम लहू की तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

desh bhakti shayari in hindi
desh bhakti shayari in hindi

न मरो सनम बेवफा के लिए
दो गज जमीन नहीं मिलेगी दफ़न के लिए
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए
हसीना भी दुप्पटा उतार देगी कफ़न के लिए

26 january desh bhakti shayari

desh bhakti shayari
desh bhakti shayari

इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाये रखना

26 january desh bhakti shayari
26 january desh bhakti shayari

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची हो जो एक बूंद भी लहू की
तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

army desh bhakti shayari
army desh bhakti shayari

मुझे तन चाहिए ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहूं इस मातृभूमि के लिए
और जब मरू तो तिरंगा कफ़न चाहिये

army desh bhakti shayari
army desh bhakti shayari

जब रिश्ते राख में बदल गए
इंसानियत का दिल दहल गया
मैं पूछ पूछ के हार गया
क्यूँ मेरा भारत बदल गया?

desh bhakti shayari
desh bhakti shayari

कुछ हाथ से मेरे निकल गया
वो पलक झपक के छिप गया
फिर लाश बिछ गयी लाखों की
सब पलक झपक के बदल गया

army desh bhakti shayari
army desh bhakti shayari

बड़े अनमोल हे ये खून के रिश्ते
इनको तू बेकार न कर
मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई घर के आँगन में दीवार ना कर

26 january desh bhakti shayari
26 january desh bhakti shayari

दोस्ताना इतना बरकरार रखो कि
मजहब बीच में न आये कभी
तुम उसे मंदिर तक छोड़ दो
वो तुम्हें मस्जिद छोड़ आये कभी

26 january desh bhakti shayari
26 january desh bhakti shayari

आज मुझे फिर इस बात का गुमान हो
मस्जिद में भजन मंदिरों में अज़ान हो
खून का रंग फिर एक जैसा हो
तुम मनाओ दिवाली मेरे घर रमजान हो

desh bhakti shayari
desh bhakti shayari

attitude Desh bhakti Shayari in Hindi

खून से खेलेंगे होली,
अगर वतन मुश्किल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना
अब हमारे दिल में है

shayari desh bhakti
Shayari desh bhakti

लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

desh bhakti shayari in hindi
desh bhakti shayari in hindi

काले गोरे का भेद नहीं
हर दिल से हमारा नाता है
कुछ और न आता हो हमको
हमें प्यार निभाना आता है

न सर झुका है कभी
और न झुकायेंगे कभी
जो अपने दम पे जिए
सच में ज़िन्दगी है वही

shayari desh bhakti
Shayari desh bhakti

दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान है
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक तुझ में जान है

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा

desh bhakti shayari
Desh bhakti Shayari

मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ

army desh bhakti shayari
army desh bhakti shayari

दिल हमारे एक हैं एक ही है हमारी जान
हिंदुस्तान हमारा है हम हैं इसकी शान
जान लुटा देंगे वतन पे हो जायेंगे कुर्बान
इसलिए हम कहते हैं मेरा भारत महान

बस ये बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना
लहू देकर जिसकी हिफाज़त की शहीदों ने
उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना

army desh bhakti shayari
army desh bhakti shayari

desh bhakti shayari 2 line

खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है

लड़े जंग वीरों की तरह,
जब खून खौल फौलाद हुआ
मरते दम तक डटे रहे वो,
तब ही तो देश आजाद हुआ

दिलों की नफरत को निकालो
वतन के इन दुश्मनों को मारो
ये देश है खतरे में ए -मेरे -हमवतन
भारत माँ के सम्मान को बचा लो

 

More Shayari.

Leave a Comment