बेवफा शायरी | Bewafa Shayari In Hindi

bewafa shayari, bewafa shayari hindi, bewafa dard bhari shayari, bewafa sad shayari, dard bhari bewafa shayari, shayari bewafa, bewafa shayari image, bewafa shayari photo,  bewafa dost shayari hindi, bewafa dard shayari, bewafa sad shayari image, bewafa wife shayari, friend bewafa shayari, bewafa shayari status video download, hindi shayari bewafa sanam, bewafa dost ke liye shayari

Bewafa Shayari In Hindi

 इकरार बदलते रहते है… इंकार बदलते रहते हैं, कुछ लोग यहाँ पर ऐसे है जो यार बदलते रहते हैं

जो हुकुम करता है, वो इल्तज़ा भी करता है, आसमान कही झुका भी करता है, और तू बेवफा है तो ये खबर भी सुन ले, इन्तेज़ार मेरा कोई वहा भी करता है. 

वो कब का भूल चुका होगा हमारी वफ़ा का किस्सा, बिछड़ के किसी को किसी का ख्याल कब रहता है

मेरी तलाश का है जुर्म या मेरी वफा का क़सूर, जो दिल के करीब आया वही बेवफा निकला

bewafa shayari hindi

 सुबकती रही रात अकेली तनहाइयों के आगोश़ में, और वो काफिऱ दिन से मोहब्बत करके उसका हो गया

इश्क़ ने जब माँगा खुदा से दर्द का हिसाब, वो बोले हुस्न वाले ऐसे ही बेवफाई किया करते हैं

 इंसान के कंधों पर इंसान जा रहा था, कफ़न में लिपटा अरमान जा रहा था, जिसे भी मिली बे-वफ़ाई मोहब्बत में, वफ़ा की तलाश में श्मशान जा रहा था

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है, यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है, तड़प उठता हूँ दर्द के मारे, ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है, अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ, मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है

मुझे इश्क है बस तुमसे नाम बेवफा मत देना, गैर जान कर मुझे इल्जाम बेवजह मत देना, जो दिया है तुमने वो दर्द हम सह लेंगे मगर, किसी और को अपने प्यार की सजा मत देना

किसी की खातिर मोहब्बत की इन्तेहाँ कर दो, लेकिन इतना भी नहीं कि उसको खुदा कर दो, मत चाहो किसी को टूट कर इस कदर इतना, कि अपनी वफाओं से उसको बेवफा कर दो

 तेरी चौखट से सिर उठाऊं तो बेवफा कहना, तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना, मेरी वफाओं पे शक है तो खंजर उठा लेना, मैं शौक से मर ना जाऊं तो बेवफा कहना 

कौन सी स्याही और कौन सी कलम से लिखता होगा… जब वो किसी के नसीब में एक बेवफा लिखता होगा

bewafa dard bhari shayari

 कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी, कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी, बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने, आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी

हर रात उसको इस तरह से भुलाता हूँ, दर्द को सीने में दबा के सो जाता हूँसर्द हवाएँ जब भी चलती हैं रात में, हाथ सेंकने को अपना ही घर जलाता हूँकसम दी थी उसने कभी न रोने की मुझे, यही वजह है कि आज भी मुस्कुराता हूँहर काम किया मैंने उसकी खुशी के लिए, तब भी जाने क्यों बेवफा कहलाता हूँ

तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना, कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे, तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर, कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे

पहले ज़िन्दगी छीन ली मुझसे, अब मेरी मौत का वो फायदा उठाती है, मेरी कब्र पे फूल चढाने के बहाने, वो किसी और से मिलने आती है

गर हमें तेरी बदनामियों का डर न होता, न तू वेवफा कहती… न मैं वेवफा होता

 ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है, तू सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक है वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी, हमें तो देखना है, तू बेवफ़ा कहाँ तक है

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हो गए, महसूस हुआ तब जब वो जुदा हो गए, कर के वफ़ा कुछ दे ना सके वो हमें, पर बहुत कुछ दे गए जब बेवफ़ा हो गए 

उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा, दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी, बेवफा मैंने तुझ को भुलाया नहीं अभी

वो जमाने में यूँ ही बेवफ़ा मशहूर हो गये दोस्त, हजारों चाहने वाले थे किस-किस से वफ़ा करते

dard bhari bewafa shayari

कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे, हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे, वो तरस जायेंगे प्यार की एक बूँद के लिए, हम तो बादल है प्यार के कहीं और बरस जायेंगे

कैसे मिलेंगे हमें चाहने वाले बताइये, दुनिया खड़ी है राह में दीवार की तरह, वो बेवफ़ाई करके भी शर्मिंदा ना हुए, सजाएं मिली हमें गुनहगार की तरह

वो कहता है… कि मजबूरियां हैं बहुत… साफ लफ़्ज़ों में खुद को बेवफा नहीं कहता

तस्वीर में भी बदले हुए हैं उनके तेवर, आँखों में मुरब्बत का कहीं नाम नहीं है

 आप बेवफा होंगे सोचा ही नहीं था, आप भी कभी खफा होंगे सोचा नहीं था, जो गीत लिखे थे कभी प्यार पर तेरे, वही गीत रुसवा होंगे सोचा ही नहीं था

 कैसी अजीब तुझसे यह जुदाई थी, कि तुझे अलविदा भी ना कह सका, तेरी सादगी में इतना फरेब था, कि तुझे बेवफा भी ना कह सका

लिख-लिख कर मिटा दिए तेरी बेवफाई के गीत, किया करती थी तू भी वफ़ा एक ज़माने में

वफ़ा के नाम से मेरे सनम अनजान थे, किसी की बेवफाई से शायद परेशान थे, हमने वफ़ा देनी चाही तो पता चला… हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे

वफ़ा की तलाश करते रहे हम, बेबफाई में अकेले मरते रहे हम, नहीं मिला दिल से चाहने वाला, खुद से ही बेबजह डरते रहे हम, लुटाने को हम सब कुछ लुटा देते मुहब्बत में उन पर मिटते रहे हम, खुद दुखी हो कर खुश उन को रखा, तन्हाईयों में सांसे भरते रहे हम, वो बेवफाई हम से करते ही रहे दिल से उन पर मरते रहे हम

 बेवफायी का मौसम भी अब यहाँ आने लगा है, वो फिर से किसी और को देख कर मुस्कुराने लगा है 

Leave a Comment